पेट दर्द : कारण, लक्षण, दवा, टेबलेट नाम – stomach pain in hindi

7
702
पेट दर्द, पेट में दर्द
पेट दर्द, पेट में दर्द

पेट दर्द क्या होता है ?

पेट दर्द एक पेट की बेचैनी या अन्य असहज संवेदनाएं हैं जो आपके पेट के हिस्से में महसूस करते हैं, यह एक ऐसी समस्या जो लगभग हर किसी को कभी न कभी होता है.

पेट दर्द एक आम समस्या है और अधिकांश मामलो में चिंता का कारण नहीं होता है. आपका डॉक्टर पेट दर्द की समस्या का आसानी से ओवर-द-काउंटर टैबलेट से निदान और उपचार कर सकता है. कभी-कभी, हालांकि, यह एक गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है जिसके लिए चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता होती है.

पेट में दर्द पेट के निम्न अंगो से जुडी समस्या के कारण हो सकता है, क्योंकि यह पेट के हिस्से में मौजूद होते है:

  1. आंत (छोटी और बड़ी)
  2. गुर्दे
  3. परिशिष्ट (बड़ी आंत का एक हिस्सा)
  4. तिल्ली
  5. पेट
  6. पित्ताशय
  7. जिगर
  8. अग्न्याशय

पेट दर्द के क्या प्रकार है ?

पेट दर्द कई सारे प्रकार होते हैं, जिन्हे इस बात पर संग्रहित किया जाता हैं कि आपका दर्द कितनी जल्दी शुरू होता है और कितनी देर तक रहता है:

  • एक्यूट पेन: यह ऐसा दर्द है की कुछ घंटों या दिनों में शुरू होता है और अन्य लक्षणों के साथ हो सकता है.
  • क्रोनिक पेन: यह पेट दर्द लंबे समय तक रहता है – हफ्तों से लेकर महीनों या उससे अधिक तक – और आ-जा सकता है.
  • प्रोग्रेसिव्ह पेन: यह पेट दर्द समय के साथ खराब हो जाता है और अक्सर अन्य लक्षणों के साथ आता है.

पेट दर्द के कारण क्या होते है ?

पेट दर्द कई स्थितियों के कारण हो सकता है. हालांकि, मुख्य कारण जीवाणु संक्रमण, असामान्य वृद्धि, सूजन, रुकावट (रुकावट) और आंतों के विकार होते हैं. गले, आंतों और रक्त में संक्रमण के कारण बैक्टीरिया आपके पाचन तंत्र में प्रवेश कर सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप पेट में दर्द हो सकता है. इन संक्रमणों से पाचन में परिवर्तन भी हो सकता है, जैसे दस्त या कब्ज.

Advertisement

मासिक धर्म से जुड़ी ऐंठन भी पेट के निचले हिस्से में दर्द का एक संभावित स्रोत है, लेकिन ये आमतौर पर पैल्विक दर्द के नाम से जाने जाते है.

पेट दर्द के अन्य सामान्य कारणों में शामिल हैं:

  1. कब्ज़
  2. दस्त
  3. आंत्रशोथ (पेट फ्लू)
  4. एसिडिटी
  5. उल्टी
  6. तनाव / एंजायटी

चाहे आपको हल्का दर्द हो या गंभीर ऐंठन। पेट दर्द के कई और कारण हो सकते हैं जैसे की:

  1. इरिटेबल बोवेल सिंड्रोम (आईबीएस)
  2. क्रोहन रोग /अल्सरेटिव कोलाइटिस
  3. विषाक्त भोजन
  4. फ़ूड एलर्जी
  5. पेट में गैस बनना
  6. मूत्र पथ के संक्रमण
  7. पेट की मांसपेशियों में खिंचाव

यदि आप लैक्टोज असहिष्णु हैं या आपको अल्सर या श्रोणि सूजन की बीमारी है, तो आपको पेट में दर्द भी हो सकता है. पेट दर्द के अन्य कारणों में शामिल हैं:

  • हरनिया
  • पित्ताशय की पथरी
  • गुर्दे की पथरी
  • एंडोमेट्रोसिस
  • गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी)
  • आंत्र रुकावट
  • पेट, अग्न्याशय, यकृत, पित्त नली, पित्ताशय की थैली, या प्रतिरक्षा कोशिकाओं का कैंसर
  • ओवेरियन कैंसर या सिस्ट
  • अग्नाशयशोथ
  • कोलेसिस्टिटिस
  • अवरुद्ध रक्त वाहिका के कारण आपकी आंतों में रक्त का प्रवाह कम होना
  • एक्टोपिक गर्भावस्था (जब एक निषेचित अंडे गर्भाशय के बाहर बढ़ता है, उदाहरण के लिए, फैलोपियन ट्यूब में)

पेट दर्द डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए ?

पेट का हल्का दर्द बिना इलाज के दूर हो सकता है. हालांकि, कुछ मामलों में, पेट दर्द के लिए डॉक्टर के पास जाना जरूरी हो सकता है.

यदि पेट दर्द इतना गंभीर है कि आप आराम से बैठ नहीं सकते हैं या आपको आराम से लेटने के लिए गोलाकार में सोना पद रहा है तो तत्काल आपके नजदीकी डॉक्टर से बात करे.

यदि आपको निम्न में से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें:

  1. पेट दर्द जो 24 घंटे से अधिक समय तक रहता है
  2. लंबे समय तक कब्ज
  3. उल्टी
  4. पेशाब करते समय जलन महसूस होना
  5. बुखार
  6. भूख में कमी
  7. अस्पष्टीकृत वजन घटाने

यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं और आपको पेट में दर्द हो रहा है तो अपने डॉक्टर को जल्द बुलाएँ और पेट दर्द का इलाज करें.

पेट दर्द के कारण का निदान कैसे किया जाता है?

परीक्षणों की एक श्रृंखला के माध्यम से पेट दर्द के कारण का निदान किया जा सकता है. परीक्षण का आदेश देने से पहले, आपके डॉक्टर एक शारीरिक परीक्षण करेंगे इसमें कोमलता और सूजन की जांच के लिए अपने पेट के विभिन्न क्षेत्रों पर धीरे से दबाव डालना शामिल है.

Advertisement
Advertisement

यह जानकारी, दर्द की गंभीरता और पेट के भीतर उसके स्थान के साथ, आपके डॉक्टर को यह निर्धारित करने में मदद करेगी कि कौन से परीक्षणों का आदेश देना है.

एमआरआई स्कैन, अल्ट्रासाउंड और एक्स-रे और इमेजिंग टेस्ट का उपयोग पेट में अंगों, ऊतकों और अन्य संरचनाओं को विस्तार से देखने के लिए किया जाता है. ये परीक्षण ट्यूमर, फ्रैक्चर, टूटना और सूजन का निदान करने में मदद कर सकते हैं.

अन्य परीक्षणों में शामिल हैं:

  • कोलोनोस्कोपी
  • एंडोस्कोपी
  • ऊपरी जीआई का परीक्षण

बैक्टीरिया, वायरल और परजीवी संक्रमण के सबूत देखने के लिए रक्त, मूत्र और मल के नमूने की भी जाँच की जा सकती है.

मैं पेट दर्द को कैसे रोक सकता हूं?

सभी प्रकार के पेट दर्द को रोका नहीं जा सकता लेकिन आप निम्न कार्य करके पेट दर्द के विकास के जोखिम को कम कर सकते हैं:

  • स्वस्थ आहार लें,
  • अपने तनाव को प्रबंधित करें,
  • बार-बार पानी पिएं,
  • शराब और कैफीन का सेवन न करे,
  • नियमित रूप से व्यायाम करें,
  • खाना खाने के बाद सीधे बैठ जाएं,
  • अपना खाना अच्छी तरह चबाएं,
  • छोटे हिस्से में भोजन करें.

यदि आपको आंतों की बीमारी है, जैसे कि क्रोहन रोग, तो उस आहार का पालन करें जो आपके डॉक्टर ने आपको असुविधा को कम करने के लिए दिया है. यदि आपके पास जीईआरडी है, तो सोने के 2 घंटे के भीतर कुछ भी न खाएं.

Advertisement

पेट दर्द की दवा / टेबलेट नाम

पेट दर्द एक सामान्य समस्या है जिसका हल निम्न ओवर-द-काउंटर दवा/टैबलेट का इस्तेमाल करके किया जा सकता है.

1. Sumo Tablet

सूमो टैबलेट निमेसुलीड और पेरासिटामोल के संयोजन की दवा है जिसका इस्तेमाल सभी प्रकार के दर्द जैसे की पेट दर्द जोड़ों का दर्द, मांसपेशियों में दर्द, कमर दर्द, सरदर्द और बुख़ार जैसे की बिमारियों में किया जाता है. (अधिक जानकारी के लिए पढ़े Sumo Tablet Uses in Hindi)

2. Nicip Plus tablet

निसिप प्लस टैबलेट एक कॉम्बिनेशन दवाई है जीसमे निमेसुलीड और पेरासीटामोल है, इसका मुख्य उपयोग पेट दर्द, ऑस्टियोआर्थराइटिस, रुमेटोईड आर्थराइटिस, मांसपेशियों में दर्द, पीठ दर्द, दांत दर्द, या कान और गले में दर्द से राहत दिलाने के लिए किया जाता है. (अधिक जानकारी के लिए पढ़े Nicip Plus Tablet Uses In Hindi)

3. Nimesulide Tablet

निमेसुलाइड टैबलेट का उपयोग तीव्र पेट दर्द, बुखार, मासिक धर्म में ऐंठन,ऑस्टियोआर्थराइटिस गाठीया, ऑपरेशन के बाद का दर्द, दांत दर्द, सरदर्द और कमर दर्द जैसे समस्या से राहत पाने के लिए किया जाता है. (अधिक जानकारी के लिए पढ़े Nimesulide Tablet Uses In Hindi)

4. Paracetamol Tablet

Advertisement

पेरासिटामोल एक सामान्य दर्द निवारक दवा है जिसका उपयोग पेट दर्द, सरदर्द और बुखार के इलाज के लिए किया जाता है. पेरासिटामोल को अन्य दर्द निवारक और बीमारी-रोधी दवाओं के साथ संयोजन में दिया जाता है. (अधिक जानकारी के लिए पढ़े paracetamol tablet uses in hindi)

पेट दर्द के लिए घरेलु उपाय / इलाज

1. तुलसी

तुलसी में ऐसे गुणधर्म होते हैं जो गैस को कम कर सकते हैं, भूख बढ़ा सकते हैं, ऐंठन से राहत दिला सकते हैं और समग्र पाचन में सुधार कर सकते हैं. तुलसी में यूजेनॉल भी होता है, जो पेट में एसिड की मात्रा को कम करने में मदद कर सकता है.

तुलसी में लिनोलिक एसिड का उच्च स्तर भी होता है, जिसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं. यदि आपको पेट में एसिड के कारण आपको पेट दर्द है तो आप तुलसी पत्ते खा कर इसका अंत कर सकते है या एसिडिटी की दवा Rantac 150 Tablet या Pan D Tablet का इस्तेमाल करे.

2. जायफल

जायफल में कई आवश्यक वाष्पशील तेल होते हैं जैसे कि मिरिस्टिसिन, एलेमिसिन, यूजेनॉल और सेफ्रोल. जो एंटी इंफ्लामेटरी होते है जिसके इस्तेमाल से पेट दर्द से राहत मिल सकती है, एक ग्लास दूध में एक चुटकी हल्दी और एक चुटकी जायफल की पावडर डालकर पिने से आपको पेट दर्द से राहत मिल सकती है.

3. जीरे की पावडर

आयुर्वेद के अनुसार, जीरा एक ऐसा मसाला है जो पाचन रस को उत्तेजित करता है और एसिडिटी और अपच जैसी पेट की समस्याओं को दूर रखता है.

Advertisement

चुटकी भर जीरे को चबाना कई बार बहुत कारगर साबित हो सकता है. हालांकि, कुछ लोगों के लिए जीरे का मजबूत स्वाद संभालना थोड़ा अधिक हो सकता है. ऐसे में आप अपने लिए एक गिलास जीरा पानी बना सकते हैं. रोजाना जीरा पानी पीने से आपका पाचन स्वस्थ रहता है. (अधिक जानकारी के लिए पढ़े Benefits Of Cumin Seeds In Hindi)

Piles meaning in hindi – बवासीर के लक्षण, बवासीर का घरेलू उपाय
Piles meaning in hindi,बबासीर का लक्षण,बवासीर की गारंटी की दवा – bavasir …
ये पाच फल रोजाना खाने से ब्लड शुगर लेवल रेहता है कंट्रोल में
Sugar Control Karne Ke Upay: आप यकीन माने या ना माने लेकीन …
Black Fungus Se Bachne Ke Upay: ब्लॅक फंगस से ऐसे बचा जा सकता है
Black Fungus जीसे Mucormycosis भी कहा जाता है, यह एक बहुत ही …
Oxygen Badhane ke Upay: इन आसान तरीकों से बढ़ाए ऑक्सीजन का स्तर
इस कोरोना महामारी के दौरान ऑक्सीजन के स्तर पर काफी चर्चा हुई …

7 COMMENTS

Leave a Reply