सर्दी जुकाम आपकी नाक और गले (ऊपरी श्वसन पथ) का एक वायरल संक्रमण होता है। आमतौर पर यह इतना खतरनाक नहीं होता लेकिन यह दैनिक जीवन में हस्तक्षेप कर सकता है. कई प्रकार के वायरस एक सामान्य सर्दी का कारण बन सकते हैं.

सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम – Cheston Cold Tablet , Cetirizine Tablet , Okacet Tablet , Levocetirizine Tablet , Sinarest Tablet , यह सभी दवाइया सर्दी और जुकाम में इस्तेमाल की जाती है. इसमें मौजूद सेटिरिजिन सर्दी जुकाम के लक्षण कम करने में सक्स्ज्म माना जाता है.

mayoclinic के अनुसार वयस्कों में आमतौर पर साल में दो से तीन बार सर्दी और जुकाम होता है. वैसे तो आमतौर पर स्वस्थ वयस्कों में सर्दी और जुकाम के लक्षण ५ से ७ दिनों में कम हो जाता है लेकिन जो लोग धूम्रपान करते है उनमे यह लक्षण १० दिनों तक भी रह सकते है.

आम तौर पर, आपको सामान्य सर्दी के लिए उपचार की आवश्यकता नहीं होती है. हालांकि, यदि लक्षणों में सुधार नहीं होता है या यदि वे बदतर हो जाते हैं, तो अपने डॉक्टर को देखें.

सर्दी जुकाम से बचने के लिए आप विटामिन सी की दवा Limcee Tablet uses in hindi का इस्तेमाल कर सकते है और इससे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ती है और सर्दी जुकाम कम होता है.

सर्दी जुकाम के लक्षण

वायरल संक्रमण या मौसमी एलर्जी के बाद ३ से ४ दिनों में यह लक्षण दिखाना शुरू करता है. यह लक्षण सभी लोगों में अलग अलग दिखाई दे सकते है. इनमे शामिल है:

  1. नाक से पानी बेहना
  2. गले में खरास
  3. खांसी
  4. बंद नाक
  5. शरीर में हल्का दर्द या हल्का सिरदर्द
  6. छींक आना
  7. हल्का बुखार
  8. आम तौर पर अस्वस्थ महसूस करना

सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम

1.Cheston Cold Tablet

Common Cold in hindi - सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम

चेस्टन कोल्ड टैबलेट की सक्रिय सामग्री में सेट्रीजिन (5मि.ग्रा) + पैरासिटामोल (325मि.ग्रा) + फेनीलेफ्रीन (10मि.ग्रा) होता है. जिसमे सेटरीजीन एलर्जी को कम करता है, पैरासिटामोल सर्दी जुकाम में होने वाले सरदर्द, बदन दर्द को कम करता है और फेनीलेफ्रीन बंद नाक से छुटकारा दिलाता है.

2. Cetirizine Tablet और Levocetirizine Tablet

Common Cold in hindi - सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम
levocetirizine tablet uses in hindi

सीटीरिज़िन और लेवोसिटिरिजिन एंटीहिस्टामिन दवाई होती है जो शरीर में एलर्जिक प्रतिक्रियाओं को रोकती है, एलर्जिक बीमारिया जैसे की सर्दी जुकाम, पित्ती, एलर्जिक राइनाइटिस में इनका इस्तेमाल किया जा सकता है.

सीटीरिज़िन और लेवोसिटिरिजिन में यह अंतर् है की लेवोसिटिरिजिन लम्बे समय तक प्रभावी होता है. इस अध्ययन के अनुसार प्रतिदिन लेवोसेटिरिज़िन 5 मिलीग्राम की खुराक से छींकना , बंद नाक और नाक से पानी बहना कम होता है ऐसा पाया गया है.

3. Okacet Tablet

Common Cold in hindi - सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम

ओकसैट टैबलेट एंटीहिस्टामाइन नामक दवाओं के एक समूह से संबंधित है. इसका उपयोग विभिन्न एलर्जी की स्थिति जैसे कि हे बुखार, कंजंक्टिविटिस और कुछ स्किन रिएक्शन और काटने और डंक मारने के रिएक्शन के इलाज के लिए किया जाता है. यह आंखों से पानी बहने, नाक बहने, छींकने और खुजली से राहत देता है.

4. Sinarest Tablet

Common Cold in hindi - सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम
sinarest tablet uses in hindi

सिनारेस्ट टैबलेट की सक्रिय सामग्री में क्लोरफेनीरामिन मेलेट (2मि.ग्रा) + पैरासिटामोल (500मि.ग्रा) + फेनीलेफ्रीन (10मि.ग्रा) होता है. क्लोरफेनीरामिन मेलेट एक एंटीहिस्टामाइन है जिसका उपयोग एलर्जी, हे फीवर और सामान्य सर्दी जुकाम के लक्षणों को दूर करने के लिए किया जाता है.

पैरासिटामोल सर्दी जुकाम में होने वाले सरदर्द, बदन दर्द को कम करता है और फेनीलेफ्रीन बंद नाक से छुटकारा दिलाता है.

ऊपर सभी सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम दिया है आपके चयन के अनुसार आप किसी भी गोली का उपयोग कर सकते है. लेकिन यह सलाह है की किसी भी टेबलेट का इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर की सलाह लेनी जरूरी है.

सर्दी जुकाम, बुखार का घरेलू उपचार

दवाओं और कफ सिरप के अलावा, आप सर्दी में बेहतर महसूस करने के लिए कुछ सरल आयुर्वेदिक उपचारों का उपयोग कर सकते हैं.

आयुर्वेद के अनुसार, तीनों दोषों यानी वात, पित्त, कफ में से किसी में भी असंतुलन होना बीमारी का कारण बन सकता है. शरीर में पित्त और कफ की अधिकता से नाक बंद और खांसी हो जाती है.

1.तुलसी

आयुर्वेद में, तुलसी को “प्रकृति की माँ” और “जड़ी-बूटियों की रानी” के रूप में जाना जाता है. तुलसी के पत्ते आम सर्दी के साथ-साथ खांसी से लड़ने की व्यक्ति की क्षमता में सुधार करने में मदद करते हैं.

तुलसी शरीर में एंटीबॉडी के उत्पादन को बढ़ाती है जिससे किसी भी संक्रमण की शुरुआत को रोका जा सकता है, इसके अलावा तुलसी में खांसी दूर करने वाले गुणधर्म होते हैं. यह चिपचिपे बलगम को बाहर निकालने में आपकी मदद करके वायुमार्ग को खुला करने में मदद करता है.

Time needed: 15 minutes.

तुलसी का काढ़ा (सर्दी का इलाज)

  1. तुलसी के पत्ते साफ़ करें

    आपकी आवश्यकता के अनुसार तुलसी के कुछ पत्ते लें और इन्हे इसे अच्छे से धो लें.

  2. पानी उबालें

    एक पैन में दो कप पानी उबालें और तुलसी के पत्ते डालें और धीमी आंच पर गैस को रखें.

  3. अदरक और काली मिर्च डालें

    इसमें 1 चम्मच बारीक किया हुआ अदरक और 5-6 काली मिर्च बारीक़ करके मिलाएं

  4. काढ़े को उबालें

    अब १० मिनट के लिए इस मिश्रन को उबाले जिससे तुलसी,अदरक और काली मिर्च के गुणधर्म इसमें घुलमिल जाए.

  5. टेस्ट को बनाए

    आखिर में काढ़े में चुटकी भर काला नमक डालकर इसमें ½ नींबू निचोड़ लें और इसे 1 मिनट तक खड़े रहने दें.

  6. छानना

    अब इस काढ़े को छानकर गर्मागर्म पीएं और सर्दि जुकाम से राहत पाए.

2.मुलेठी

मुलेठी एक पौधे के मूल होते है, जिसे “मीठी लकड़ी” के नाम से भी जाना जाता है. मुलेठी एक गुणकारी जड़ी बूटी है जिसका इस्तेमाल सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार करने में किया जाता है.

मुलेठी में बलगम को बाहर निकालने के गुणधर्म (expectorant) होते है, यह वायुमार्ग के अंदर बलगम को पतला और ढीला करता है. इसीलिए मुलेठी को आयुर्वेदा में सर्दी जुकाम की दवा माना गया है.

Time Needed : 15 minutes

मुलेठी काढ़ा सर्दी जुकाम को कम करने के लिए सबसे प्रभावी उपाय माना गया है.

  1. सभी सामग्री को इकठ्ठा करें

    सबसे पहले मुलेठी पाउडर, एक चुटकी दालचीनी पाउडर, काली मिर्च पाउडर और कुछ तुलसी के पत्ते लें

  2. काढ़े को उबालें

    अब २ कप पानी को उबालें और इसमें ऊपर दिए सभी सामग्री को डालें और ५ मिनट तक उबालें

  3. काढ़े को तैयार करें

    काढ़े को तब तक उबालें जब तक वो एक कप पानी बनें और इसमें एक चमच्च शहद मिलाए

Materials
  • मुलेठी पावड़र
  • दालचीनी पावड़र
  • कालीमिर्च की पावड़र
  • तुलसी के पत्ते
  • दो कप पानी
  • शहद

यदि आप मुलेठी के बारे में मराठी में जानना चाहते है तो इसे पढ़े Mulethi In marathi

अंत में यहीं कहेंगे की आपकी आवश्यकता के अनुसार सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम का चयन करें, या आपको कोई भी घरेलू नुस्के भी इस्तेमाल क्र सकते है.

8 COMMENTS

Leave a Reply