Asthma in Hindi – अस्थमा के लक्षण और आयुर्वेदिक दवा

6
581
Asthma in Hindi - अस्थमा के लक्षण और आयुर्वेदिक दवा
Asthma in Hindi - अस्थमा के लक्षण और आयुर्वेदिक दवा
Advertisements

asthma in hindi / अस्थमा क्या है / दमा क्या है ?

asthma meaning in hindi : अस्थमा एक वायूमार्ग की बिमारी है जिसमें आपके वायुमार्ग छोटे और सूज जाते हैं और अतिरिक्त कफ का उत्पादन करते हैं.  इससे सांस लेना मुश्किल हो जाता है और जब आप सांस छोड़ते हैं तो खांसी आती है.

कुछ लोगों के लिए अस्थमा एक छोटी सी परेशानी होती है तो दूसरों के लिए, यह एक बड़ी समस्या हो सकती है जो दैनिक गतिविधियों में हस्तक्षेप करती है और इससे जानलेवा अस्थमा का दौरा पड़ सकता है.

क्या अस्थमा / दमा ठीक हो सकता है ? 

अस्थमा को ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन इसके लक्षणों को नियंत्रित किया जा सकता है.  चूंकि अस्थमा अक्सर समय के साथ बदलता है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने लक्षणों को ट्रैक करें और आवश्यकतानुसार अपने उपचार को समायोजित करने के लिए अपने डॉक्टर के साथ काम करें.

asthma symptoms in hindi / अस्थमा के लक्षण / दमा के लक्षण

अस्थमा के लक्षण / दमा के लक्षण
अस्थमा के लक्षण / दमा के लक्षण

अस्थमा के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं. आपको कभी-कभी अस्थमा के दौरे पड़ सकते हैं या केवल निश्चित समय पर लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि व्यायाम करते समय, या किसीं एलर्जीक प्रतिक्रिया के समय लक्षण होते हैं.

Advertisement

अस्थमा / दमा के लक्षणों में शामिल हैं:

  1. सांस लेने में कठिनाई
  2. सीने में जकड़न या दर्द
  3. साँस छोड़ते समय घरघराहट, जो बच्चों में अस्थमा का एक सामान्य लक्षण है
  4. सांस लेने में तकलीफ,
  5. खाँसी या घरघराहट के कारण सोने में परेशानी
  6. खांसी या घरघराहट के हमले जो श्वसन वायरस से खराब हो जाते हैं, जैसे कि सर्दी जुकाम या फ्लू

अस्थमा के कारण क्या है? Asthama Causes In Hindi?

यह स्पष्ट नहीं है कि कुछ लोगों को अस्थमा क्यों होता है और अन्य को नहीं, लेकिन यह संभवतः पर्यावरणीय और आनुवांशिक कारकों के संयोजन के कारण होता है.

एलर्जी को ट्रिगर करने वाले विभिन्न पोल्युटंट और पदार्थों के संपर्क में आने से अस्थमा के लक्षण और दोहरे हो सकते हैं.

अस्थमा ट्रिगर के कारण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होते हैं और इसमें शामिल हो सकते हैं:

  1. वायुजनित एलर्जी, जैसे पराग, धूल के कण, मोल्ड बीजाणु, पालतू जानवरों की रूसी या कॉकरोच कचरे के कण.
  2. श्वसन संक्रमण, जैसे सामान्य सर्दी
  3. शारीरिक गतिविधि
  4. ठंडी हवा
  5. वायु प्रदूषक और अड़चनें, जैसे धुआँ
  6. कुछ दवाएं, जिनमें बीटा ब्लॉकर्स, एस्पिरिन और नॉन-स्टेरायडल अँटी इन्फलमेट्री दवाएं शामिल हैं, जैसे कि आयबुप्रोफेन और नेप्रोक्सन सोडियम, 
  7. मजबूत भावनाएं और तनाव
  8. झींगा, सूखे मेवे, प्रसंस्कृत आलू, बीयर और वाइन सहित कुछ प्रकार के खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में सल्फाइट्स और परिरक्षक मिलाए जाते हैं, जिनसे एलर्जी हो सकती है.
  9. गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (जीईआरडी), एक ऐसी स्थिति जिसमें पेट का एसिड आपके गले में वापस आ जाता है.

asthma treatment in hindi

asthma treatment in hindi
asthma treatment in hindi

1.avil tablet 

एलर्जीक अस्थमा किसीं विशिष्ट पोलन के संपर्क में आने से होता है, जैसे की बदला हुआ मौसम, धुल के कण, जाणवरो के बाल आदी। ऐसें में avil tablet के ईस्तेमाल से आपकी एलर्जीक अस्थमा की समस्या कम हो सकती है.

Advertisement

2.Deflazacort tablet

डिफ्लैज़कॉर्ट टैबलेट को ब्रोन्कियल अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) में इंफ्लामेटोरी रिस्पॉन्स को कम करता है.

3.Levocetirizine Tablet

यह दवा अस्थमा में चिकित्सकीय रूप से प्रभावी है और अस्थमा के रोगी की जीवनशैली अच्छि बनाने में लाभदायक और उपयोगी है.

4.Cetirizine Tablet

एक या दो बार दैनिक 10 से 20 मिलीग्राम cetirizine tablet की खुराक लेने पर एलर्जीक अस्थमा के लक्षणो में सुधारआता है.

5.Montair LC

मौसमी अस्थमा को रोकने के लिए समय से पेहले मोंटेयर-एलसी टैबलेट के एकल खुराक का सेवन करें। ऐसे आप मौसमी अस्थमा को रोक सकते है.

Advertisement

6.Monticope Tablet

लेवोसेटिरिज़िन 5 मिलीग्राम + मोंटेलुकास्ट 10 मिलीग्राम का संयोजन (monticope tablet) एलर्जीक दमा में उपयोगी होता है.

दमा की आयुर्वेदिक दवा / अस्थमा की देशी दवा

1. अदरक और लहसुन की कलियां

दमा की आयुर्वेदिक दवा / अस्थमा की देशी दवा
दमा की आयुर्वेदिक दवा / अस्थमा की देशी दवा

अस्थमा को जड़ से इलाज इन हिंदी : जब सूजन से निपटने की बात आती है तो अदरक सबसे भरोसेमंद जड़ी बूटी में से एक है. आधा कप अदरक की चाय में 2-3 पिसी हुई लहसुन की कलियां मिलाकर वायुमार्ग में कफ जमा होने से रोकने के लिए एक प्रभावी उपाय साबित हो सकता है, जिससे दमा के हमलों को रोका जा सकता है.

2.मुलेठी और अदरक

अस्थमा की देशी दवा : लोकोरिस को हिंदी में मुलेठी के नाम से भी जाना जाता है, मुलेठी और अदरक भी सूजन-रोधी गुणों से भरपूर होता है.  डॉ. लाड ने अपनी पुस्तक में अस्थमा और इसके लक्षणों के प्रबंधन के लिए आधा चम्मच मुलेठी और आधा चम्मच अदरक से बनी चाय पीने का भी सुझाव दिया है।

3.अदरक और हल्दी पाउडर

दमा की आयुर्वेदिक दवा: अस्थमा के दौरे की आवृत्ति को कम करने के लिए यह एक आयुर्वेदिक उपाय है.  बस एक गिलास दूध में एक चम्मच ताजा पिसा हुआ अदरक उबालें और उसमें 1/2 चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं.  इस काढ़े को दिन में दो बार पिएं.

Advertisement

इसीके साथ आज का लेख “Asthma in Hindi” यही पर खतम करते है उम्मीद है आपको दमा की आयुर्वेदिक दवा, दमा के लक्षण, अस्थमा की देशी दवा, अस्थमा के लक्षण, अस्थमा को जड़ से इलाज इन हिंदी” सब जानकारी मिली हो. यदि आपको कुछ भी सवाल हो तो जरूर कमेंट में पूछे।

6 COMMENTS

Leave a Reply