Fitness Tips In Hindi

पेट में गैस बनना घरेलू उपाय Home Remedies for Gas Problem In Hindi

पेट में गैस बनना घरेलू उपाय Home Remedies for Gas Problem In Hindi

पेट में गैस बनना इसे अंग्रेजी में एबडोमीनल ब्लोटिंग के नाम से जाना जाता है, लेकीन आप पेट मे गैस को बनना कम या बंद कर सकते है। बस आपको को ये उपाय करने होंगे

पेट में गैस बनना इसे अंग्रेजी में एबडोमीनल ब्लोटिंग के नाम से जाना जाता है, आमतौर पर पेट में गैस की समस्या सभी उम्र के पुरुषों और महिलाओं में पायी जाती है। कइ अध्ययनों से पता चला है कि इरिटेबल बोवेल सिंड्रोम (IBS) के 90 प्रतिषद से अधिक रोगियों में पेट में गैस के लक्षण दिखाई देते हैं।

आपकी बड़ी आंत यानी की कोलन में गैस तब बनती है जब बैक्टीरिया कार्बोहायड्रेट पर पचन क्रिया करते हैं – फाइबर, स्टार्च और शर्करा ऐसे खाद्य पदार्थ जो आपकी छोटी आंत में पचते नहीं हैं इनसे पेट में गैस बनना स्वाभाविक होता है, बैक्टीरिया इस गैस में से कुछ का उपभोग करते हैं, और कुछ गैस गुदा से निकाल लेते हो और कुछ गैस की डकार आती है।

पेट में गैस बनना लक्षण क्या हैं?

सभी को अलग अलग लक्षण दिखाई देते है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है। गैस बनना सामान्य लक्षणों में शामिल है:

  1. डकार, पेट में ऐंठन,
  2. पेट फूलना या परिपूर्णता की भावना,
  3. पेट के आकार में वृद्धि,
  4. गैस के कारण पीठ में दर्द,
  5. गैस के कारण छाती में दर्द,

गैस से बहोत असहजता हो सकती है, लेकिन यह आमतौर पर गंभीर समस्या नहीं होती है।  ज्यादातर मामलों में, लक्षणों को चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता नहीं होती है और कुछ मिनटों से लेकर कुछ घंटों के भीतर अपने आप ही इसमे सुधार होता है।

गैस होणे के क्या कारण होते है?

गैस आपके पेट या छोटी या बडी आंत के पथ में विकसित होती है। खाने या पीने के दौरान हवा निगलने से पेट में गैस होती है, गैस होनेबके कारण नीचे दिए गए है:

  1. सोडा रहीत कार्बोनेटेड पेय जैसे की, कोला, पेप्सी, थम्स अप
  2. स्मोकिंग
  3. चिविंग गम
  4. कार्बोहायड्रेट से भरपूर खाद्य

बड़ी आंतों में गैस तब विकसित होती है जब सामान्य बैक्टीरिया अपचित खाद्य को पचाने की कोशीश करते है। कुछ खाद्य पदार्थ दूसरों की तुलना में अधिक आसानी से पच जाते हैं।  कुछ कार्बोहाइड्रेट, जैसे कि चीनी, फाइबर और कुछ स्टार्च, छोटी आंतों में पचते नहीं हैं।

इसके बजाय, ये अपचीत खाद्य पदार्थ बड़ी आंतों में जाते हैं जहां वे सामान्य बैक्टीरिया से पाचन किए जाते हैं।  यह प्राकृतिक प्रक्रिया हाइड्रोजन, कार्बन डाइऑक्साइड और कभी-कभी मीथेन गैस का उत्पादन करती है, जो गैस मलाशय से निकलता है।

इसलिए, कुछ खाद्य पदार्थ खाने के बाद आपको अधिक गैस के लक्षणों का अनुभव हो सकता है।  खाद्य पदार्थ जो गैस, पेट फूलना और अन्य लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं, उनमें शामिल हैं:

  • ब्रोकोली
  • मुंग फलियां
  • पत्ता गोभी
  • पनीर
  • मैदे की रोटी
  • आइसक्रीम
  • दूध
  • आलू
  • नूडल्स
  • मटर
  • सेब
  • कोल्ड ड्रिंक्स
  • गेहू की चपाती

और पढ़े:- बेप्लेक्स फोर्ट टैबलेट

पेट में गैस बनना निवारण

पेट में गैस बनना निवारण
पेट में गैस बनना निवारण

वैसे तो आप पुरी तरह गैस को पेट से निकाल नहीं सकते लेकीन आप पेट मे गैस का बनना कम या बंद कर सकते है। बस आपको आपके दैनिक जीवन में कुछ बदलाओं की जरूरत है।

निवारण

पेट में गैस को कम करणे और कम बनने के लिए आहार में परिवर्तन करना एक उत्कृष्ट सुरुवाती कदम है। पेट मे गैस को बढावा देने वाले खाद्य पदार्थों की पहचान करें और उन्हे अपने आहार से बाजू करे। इसके अलावा आप जो कुछ भी खाते और पीते हैं, उसे लिखें और फिर किसी भी गैस के लक्षणों पर ध्यान दें।

  1. सोडा रहीत कोल्ड ड्रिंक्स का सेवन कम करे,
  2. खाणे और पीने के समय जलदबाजी न करते हुए इसे आराम से खाए,
  3. चिविंग गम और कॅंडी का सेवन न करे,
  4. कोल्ड ड्रिंक लेते समय स्ट्राव का ईस्तेमाल न करे,
  5. धुम्रपान बंद करे,

गैस की अंग्रेजी दवा का नाम – गैस की दवा का नाम

जीवनशैली और आहार परिवर्तन के साथ, कुछ दवाएं पेट में गैस बनना लक्षणों को प्रबंधित करने में आपकी मदद कर सकती हैं।

पाचन शक्ती को बढावा देने वाली डायजेस्टिव्ह एंझाईम की गोली जैसे की युनीइंझायम टैबलेट (Unienzyme Tablet) का ईस्तेमाल करे, इस दवा मे ऍक्टिवेटेड चारकोल, पापेन और फंगल डायस्टेस जैसे पाचन शक्ती को प्रोत्साहन देने वाले एंझाईम होते है।

गैस की दवा का नाम – ऍक्टिवेटेड चारकोल भी आंतों की गैस और पेट के फुलने से राहत दे सकता है। इसके अलावा यह पेट से विषाक्त पदार्थ निकालाने मे मदद करता है, युनीइंझायम टैबलेट के साथ आप एसीडीटी की दवा जैसे की Rantac 150 Tablet और Pan D Tablet ले सकते हो जीससे आपको गैस के कारण होणे वाला छाती में दर्द कम हो सकता है।

और पढ़े:- दर्द की दवा Sumo Tablet Uses in Hindi

डॉक्टर के पास कब जाना चाहीए?

यदि आपको गैस केवल खाने या पीने के बाद होती है और अपने आप या कुछ उपचारों की सहायता से हल हो जाती है, तो संभवतः आपको डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नहीं है।

यदी, आपको पेट के गैस के कारण गंभीर असहजता और दुष्परिणाम होते है और यह आपकी दिनचर्या को लगातार प्रभावित करता है तो ऐसे वक्त आपको डॉक्टर के पास जाना चाहीए।

  1. आंत्र की आदतों में बदलाव
  2. वजन घटना
  3. लगातार कब्ज या दस्त
  4. उल्टी (उलटी की दवा)
  5. गैस के कारण छाती में दर्द
  6. गैस के कारण पीठ में दर्द

और पढ़े:- ivermectin tablet uses in hindi

पेट में गैस बनना घरेलू उपाय – पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय

1.लौंग का तेल (पेट में गैस बनना घरेलू उपाय)

लौंग का तेल (पेट में गैस बनना घरेलू उपाय)
लौंग का तेल (पेट में गैस बनना घरेलू उपाय)

लौंग के तेल का उपयोग पारंपरिक रूप से पाचन संबंधी समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है, जिसमें पेट में गैस, पेट मे फुलन और अपच शामिल हैं।  लौंग के तेल में पेट के अल्सर से लड़ने वाले गुणधर्म भी पाए जाते हैं।

पेट में गैस बनना घरेलू उपाय के लिए भोजन के बाद लौंग के तेल का सेवन पाचन एंजाइमों को बढ़ा सकता है और आंतों में गैस की मात्रा को कम कर सकता है।

2.प्रोबायोटिक्स का सेवन बढाए

आंत मे फायदेमंद बैक्टीरिया होते है जो पाचन को बढावा देते है, इसिलिए प्रोबायोटिक की खुराक आंत में फायदेमंद बैक्टीरिया को अधिक कार्य के लिए प्रभावी बनाती है। वे संक्रामक दस्त सहित कई पाचन समस्याओं का इलाज करने के लिए उपयोगी होते हैं।

कुछ संशोधन/रिसर्च यह बताते हैं कि प्रोबायोटिक्स के कुछ लक्षणों में सूजन, आंतों की गैस, पेट में दर्द और आईबीएस के अन्य लक्षण हो सकते हैं।

आमतौर पर बिफीडोबैक्टीरियम और लैक्टोबैसिलस जैसे प्रोबायोटिक को सबसे प्रभावी माना जाता है।

प्रोबायोटिक के स्त्रोत:

  • दही
  • अचार
  • इडली
  • पनीर
  • हरी मटर
  • छाछ

3.जड़ी बूटी (पेट में गैस बनना घरेलू उपाय)

गैस के लिए नीचे दिए गए प्राकृतिक रसोई में उपलब्ध जड़ी बूटी का ईस्तेमाल करें:

  1. मोटी सौंफ़
  2. जीरा
  3. धनिया
  4. सौंफ
  5. हल्दी
  6. लेहसून

इन जमीन जड़ी बूटियों या बीजों में से एक को एक गिलास गर्म पानी में मिलाएं और पीएं।

4.एलो वेरा जूस

एलो वेरा जूस -   पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय
एलो वेरा जूस – पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय

त्वचा के लिए एलोवेरा के फायदे व्यापक रूप से जाने जाते हैं, लेकिन बहुत से लोग इसका पेट में गैस बनना घरेलू उपाय नहीं जाणते होंगे। यह उपाय सैंटिफिकली प्रभावी पाया गया है। रोगियों पर किए गए एक परीक्षण 5 में यह साबित हुआ है कि एलोवेरा का रस वास्तव में आपको गैस और संबंधित दर्द से काफी हद तक छुटकारा पाने में मदद करता है।

पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय – दिन मे एक बार या दो बार एलो वेरा जूस पिणे से पेट की सभी प्रकार की समस्या दूर हो जाती है।

5.अदरक की चाय – पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय

अदरक की चाय में मौजूद मुख्य घटक में एंटीऑक्सिडेंट और वेदना नाशक गुण होते हैं। अदरक की चाय को इसे ताजे अदरक की जड़ के टुकड़े को पानी में उबालकर बनाया जाता है। भोजन से पहले या इसके साथ अदरक की चाय पीने से लार, गैस्ट्रिक रस और पित्त उत्पादन के स्राव को उत्तेजित करता है, गैस्ट्रिक एसिड को बेअसर करता है।
अन्य सामग्री, जैसे अजवाईन (Carrom Seeds), कैरवे (शाही जीरा), नद्यपान (मुलेठी), और पवित्र तुलसी (तुलसी) को भी पानी में पीया जा सकता है जीससे गैस्ट्रिक समस्या को कम करने के लिए सेवन किया जा सकता है, जैसे अपच, गैस, सूजन, ऐंठन और दर्द।  जी मिचलाना।

6.नींबू का पानी

नींबू शरबत या नींबू की चाय का सेवन पेट की समस्याओं से तुरंत राहत पाने के लिए एक अद्भुत उपाय है।  एक नींबू का पानी, एक चुटकी काला नमक, पिसा हुआ भुना जीरा और स्वाद के लिए अजवाइन मिलाकर नींबू शरबत बनाकर पीए।
यह पेट की गैस को बनने से रोकने  के लिए एक अद्भुत पेय है।  एक गिलास नींबू के पानी में एक चुटकी बेकिंग सोडा मिलाकर पीने से एसिडिटी को कम करने और पाचन को बेहतर बनाने में फायदेमंद साबित हो सकता है।

7.चिया बीज

चिया के बीज में एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों के उपचार की क्षमता होती है, इसके अलावा दर्द नाशक गुण भी होते हैं।  
इसके अलावा चिया बीज, पोषक तत्वों, फाइबर और ओमेगा -3 फैटी एसिड से भी समृद्ध हैं।  इन्हें ठंडे पेय पदार्थों, स्मूदी, फलों के रस, दही, दलिया, पुडिंग आदि में मिलाया जा सकता है। यह एक भरोसेमंद पेट में गैस बनना घरेलू उपाय।

8.त्रिफला चूर्ण

त्रिफला चूर्ण  -  पेट में गैस बनना घरेलू उपाय
त्रिफला चूर्ण – पेट में गैस बनना घरेलू उपाय

हर्बल पाउडर त्रिफला चूर्ण भी गैस के कारण पीठ में दर्द से निपटने में काफी मददगार होता है।  इसका आधा चम्मच उबलते पानी में 5-10 मिनट के लिए रखें और फिर बिस्तर पर जाने से पहले इसे पी लें।  इस मिश्रण के सेवन की मात्रा और आवृत्ति से सावधान रहें क्योंकि यह फाइबर में उच्च है और अधिक मात्रा में लेने पर सूजन का कारण बन सकता है।

9.काली मिर्च और जीरा के साथ लहसुन

पेट के गैस की समस्या के इलाज के लिए लहसुन एक और विकल्प है।  इसमें हीलिंग प्रॉपर्टी होती है और उचित पाचन में मदद करती है।  गैस के गठन को कम करने के लिए अपने भोजन और सूप में लहसुन जोड़ें।

Time needed: 15 minutes.

पेट में गैस बनना घरेलू उपाय काली मिर्च और जीरा के साथ लहसुन

  1. Step 1

    एक कप पानी लें और इसे उबालें।  अब, लहसुन की कुछ लौंग लें और इसे पीस लें। 

  2. Step 2

    पानी में जमीन लहसुन जोड़ें।  कुछ काली मिर्च और जीरा डालें।

  3. Step

    इसे कुछ मिनटों के कूप के लिए उबलने दें और फिर इसे आग से उतार लें।

  4. Step 4

    तयार पेय को ठंडा होने दें और इसे दिन में तीन बार पियें।

10.तरबूज़ का रस

तरबूज के रस का एक गिलास पेट के गैस से राहत दिलाने में प्रभावी है और पाचन के लिए भी अच्छा है।

तो इसी के साथ हमारा आज का लेख “पेट में गैस बनना घरेलू उपाय Home Remedies for Gas Problem In Hindi” खतम होता है, मुझे उम्मीद है आपको  गैस के कारण पीठ में दर्द, गैस की अंग्रेजी दवा का नाम, पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय, गैस की दवा का नाम के बारे मे सही जाणकारी मिली हो, इसके अलावा पेट में गैस बनना घरेलू उपाय, गैस बनने से घबराहट ये भी टॉपिक हमने इसमे देखा। यदी आपको यह लेख पसंद आया तो कमेंट करके बताए।

 

13 Comments

13 Comments

  1. Pingback: Unienzyme Tablet Uses In Hindi : उपयोग और लाभ हिंदी में - ArogyaOnline

  2. Pingback: Evion 400 Uses in Hindi - एवियॉन 400mg कैप्सूल के उपयोग - ArogyaOnline

  3. Pingback: Deflazacort tablet uses in hindi - डिफ्लैजाकोर्ट के उपयोग - ArogyaOnline

  4. Pingback: Sumo Tablet Uses in Hindi - सूमो टैबलेट के उपयोग हिंदी में - ArogyaOnline

  5. Pingback: Zerodol SP Tablet Uses in Hindi - जीरोडोल एसपी टैबलेट - ArogyaOnline

  6. Pingback: Beplex Forte Tablet Uses in Hindi - बेप्लेक्स फोर्ट टैबलेट - ArogyaOnline

  7. Pingback: Deflazacort tablet uses in hindi - डिफ्लैजाकोर्ट के उपयोग - ArogyaOnline

  8. Pingback: Dulcoflex tablet uses in hindi - डल्कोफ्लेक्स टैबलेट का उपयोग - ArogyaOnline

  9. Pingback: ज़ेरोडोल-पी टैबलेट के उपयोग - zerodol p tablet uses in hindi - ArogyaOnline

  10. Pingback: Nicip Plus tablet uses in hindi - निसिप टैबलेट के उपयोग - ArogyaOnline

  11. Pingback: Zincovit Tablet Uses in Hindi जिंकोविट टैबलेट के फायदे - ArogyaOnline

  12. Pingback: Aristozyme syrup uses in hindi - अरिस्टो जाइम सिरप के उपयोग - ArogyaOnline

  13. Pingback: azithromycin tablet uses in hindi - azithromycin 500 uses in hindi - ArogyaOnline

Leave a Reply

Trending

To Top