breast cancer symptoms in hindi
breast cancer symptoms in hindi

breast cancer symptoms in hindi – स्तन कैंसर महिलाओं में सबसे आम कैंसर होता है और यह फेफड़ों के कैंसर के बाद महिलाओं के मौत का दूसरा प्रमुख कारण है।


बगल और स्तन में दर्द, स्तन लाल होना, निपल्स के बाजू में रॅश और स्तन में बदलावं ऐसें कइ स्तन के कैंसर के लक्षण होते इस लेख में हम जानेंगे breast cancer symptoms in hindi के बारे में।

स्तन का कैंसर क्या होता है? Breast Cancer In Hindi

कैंसर एक ऐसी बीमारी होती है जिसमें कोशिकाएं नियंत्रण से बाहर हो जाती हैं। स्तन कैंसर में स्तन की कोशिकाएं भिन्न रूप से बदल या बढ जाती है।

स्तन के कैंसर विभिन्न प्रकार के होते हैं, स्तन कैंसर का प्रकार इस बात पर निर्भर करता है कि स्तन में कौन सी कोशिकाएँ कैंसर में बदल गई हैं।
स्तन कैंसर स्तन के विभिन्न भागों में शुरू हो सकता है जीसमे शामिल है लोब्यूल, नलिकाएं, और कानेक्टिव्ह टिशू। 

इसमे लोब्यूल वे ग्रंथियां होती हैं जो दूध का उत्पादन करती हैं। नलिकाएं दूध को निप्पल तक ले जाने का काम करती है और कानेक्टिव्ह टिशू यह चारों ओर से सब कुछ एक साथ जोडे रखता है। अधिकांश स्तन के कैंसर नलिकाओं या लोब्यूल्स में शुरू होते हैं।

स्तन कैंसर के सबसे आम प्रकार हैं:

1.Invasive ductal carcinoma – इस स्तन के कैंसर के प्रकार में कैंसर कोशिकाएं नलिकाओं के बाहर कानेक्टिव्ह टिशू के अन्य भागों में विकसित होती हैं। फार यह आक्रामक कैंसर कोशिकाएं शरीर के अन्य भागों में फैल जाती है।

2.Invasive lobular carcinoma – इस स्तन के कैंसर के प्रकार में कैंसर कोशिकाएं लोब्यूल्स से स्तन के कानेक्टिव्ह टिशू तक फैलती हैं जो। ये आक्रामक कैंसर कोशिकाएं शरीर के अन्य भागों में भी फैल सकती हैं।

Breast Cancer Symptoms in Hindi – ब्रैस्ट कैंसर के लक्षण

Breast Cancer Symptoms In Hindi - ब्रैस्ट कैंसर के लक्षण
breast cancer symptoms in hindi

1.स्तन या बगल में गांठ बनना

स्तन या बगल में गांठ बनना यह अक्सर स्तन कैंसर का पहला लक्षण होता है। डॉक्टर आमतौर पर मैमोग्राम पर एक गांठ देख या महसूस करने से स्तन के कैंसर का पता कर सकते है।

Invasive ductal carcinoma इस प्रकार के स्तन कैंसर में स्तन के मांस में गांठ बनती है। यह स्तन कैंसर का सबसे आम प्रकार होता है, 50% से 70% स्तन कैंसर पीडित महिलाओं में इसे पाया जाता है। Reference

2.कांख या कॉलरबोन के पास सूजन

स्तन के इन हिस्सो में सुजनका मतलब यह हो सकता है कि स्तन कैंसर उस क्षेत्र में लिम्फ नोड्स से फैल गया है।  इसमे गांठ महसूस होने से पहले ही सूजन शुरू हो सकती है, इसलिए अगर आपको यह दिखे तो अपने डॉक्टर को बताएं।

स्तन कैंसर पूरे स्तन या स्तन के एक क्षेत्र में सूजन पैदा कर सकता है। इस सूजन के बाद भले ही कोई अलग गांठ न हो, लेकिन स्तन का आकार दूसरे स्तन से अलग होता है। 

सूजन के कारण त्वचा में कसाव भी महसूस हो सकता है।

ये लेख पढ़े:- Pregnancy Symptoms in Hindi – गर्भावस्था के लक्षण

3.स्तन की त्वचा में परिवर्तन

स्तन कैंसर त्वचा की कोशिकाओं में परिवर्तन और सूजन पैदा कर सकता है जिससे त्वचा में परिवर्तन हो सकता है। इन परिवर्तनों के उदाहरणों में शामिल हैं:

  • निप्पल और इरोला के आसपास की पपड़ीदार त्वचा बनना।
  • स्तन के किसी भी हिस्से में त्वचा का मोटा होना।

इन परिवर्तनों से खुजली भी हो सकती है, जिसे लोग अक्सर स्तन कैंसर से जोड़ते हैं, हालांकि यह आम नहीं है। त्वचा में परिवर्तन डरमेटीटीस और एक्जिमा से हो सकते हैं इसिलिए ऐसे परिवर्तन का जांच डॉक्टर से करें।

4.निप्पल से द्रव्य निर्वहन

महिला निप्पल से द्रव्य का निर्वहन देख सकती है, जो पतला या मोटा हो सकता है और रंग में स्पष्ट से दूधिया से पीले, हरे या लाल रंग में हो सकता है।

जो लोग स्तनपान कर रहे हैं उनके निप्पल से दूधिया स्राव होना सामान्य है, लेकिन किसी अन्य निप्पल डिस्चार्ज के बारे में डॉक्टर को देखने की सलाह दी जाती है।

5.स्तन या निप्पल में दर्द

स्तन कैंसर त्वचा की कोशिकाओं में परिवर्तन का कारण बन सकता है जिससे स्तन में दर्द, काठोरता और बेचैनी महसूस होती है। 

हालांकि, अक्सर स्तन कैंसर दर्द रहित होता है, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि स्तन कैंसर के कारण होने वाले किसी भी लक्षण को नज़र अंदाज़ न करें।

ये लेख पढ़े:- दर्द की गोली Trypsin Chymotrypsin Tablet

6.स्तन में लालपन

स्तन कैंसर त्वचा में परिवर्तन का कारण बन सकता है जिससे यह त्वचा में परिवर्तन होता है। स्तन कैंसर में त्वचा लाल या बैंगनी हो सकती है या नीले रंग की हो सकती है।

यदि किसी महिला का स्तन बिना किसीं आघात या जानने वाली स्तिथी के अलावा लाल होती है तो उन्हें अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

7.निप्पल अंदर की ओर चले जाना

स्तन कैंसर में निप्पल अंदर की ओर चले जा सकते है। इन परिवर्तनों के परिणामस्वरूप स्तन में आवक हो सकता है, या यह अपने आकार के मामले में अलग दिख सकता है।

निप्पल की उपस्थिति अक्सर ओव्यूलेशन या मासिक धर्म चक्र के दौरान बदल सकती है, लेकिन लोगों को किसी भी नए निप्पल परिवर्तन के बारे में डॉक्टर को बताना चाहिए।

8.लिम्फ नोड में बदलाव

लिम्फ नोड्स प्रतिरक्षा प्रणाली के ऊतकों के छोटे, गोल संग्रह होते हैं जो तरल पदार्थ को फ़िल्टर करते हैं और संभावित हानिकारक कोशिकाओं को रोकते हैं।  इनमें बैक्टीरिया, वायरस और कैंसर कोशिकाएं को रोकने की क्षमता शामिल हैं।

यदि कोई कैंसर कोशिका स्तन को छोड़ती है, तो यह सबसे पेहले लिम्फ नोड को प्रभावी करती है। इससे इस क्षेत्र में सूजन हो सकती है।
लिम्फ नोड्स के अलावा बगल में और कॉलरबोन के आसपास सुजन हो सकती है।  वे आमतौर पर छोटे, दृढ़, सूजे हुए गांठ की तरह महसूस होते हैं।

ये लेख पढ़े:- Beplex Forte Tablet Uses in Hindi – बेप्लेक्स फोर्ट टैबलेट

9.प्रगर्तन / डिम्पलिंग

यह एक ऐसी असामान्य स्थिती है जीसमे त्वचा पर असाधारण रूप से डिंपल तयार हो जाते है। त्वचा पर डिंपल कभी-कभी स्तन कैंसर का संकेत हो सकते है।

डॉक्टर त्वचा के रूप में इस बदलाव को “प्यू डी ऑरेंज” कहते हैं क्योंकि डिंपल त्वचा एक ऑरेंज की सतह जैसा दिखता है।

स्तन कैंसर का इलाज – Treatment Of Breast Cancer In Hindi

Breast Cancer Symptoms In Hindi - ब्रैस्ट कैंसर के लक्षण
Treatment Of Breast Cancer In Hindi

स्तन कैंसर का उपचार कई कारकों पर निर्भर करता है, जिनमें शामिल हैं:

  • स्तन कैंसर का प्रकार
  • स्तन कैंसर का चरण
  • महिला की उम्र
  • महिला की स्वास्थ्य स्तिथी

कुछ सबसे आम स्तन कैंसर के उपचारों में शामिल हैं:

  • हार्मोन थेरेपी: इसमे हार्मोन रिसेप्टर्स वाले कैंसर कोशिकाओं को लक्षित करने के लिए हार्मोन का ईस्तेमाल किया जाता है।
  • रेडिएशन थेरपी: इस उपचार में तेज रेडिएशन से कैंसर कोशिकाओं को नष्ट किया जाता है।
  • कीमोथेरेपी: जो कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए विशिष्ट दवाओं का उपयोग करती है।
  • लम्पेक्टोमी: जिसमें स्तन को बरकरार रखते हुए ट्यूमर को हटाया जाता है।
  • मास्टेक्टॉमी: जिसमें ट्यूमर और स्तन के हिस्से या सभी ऊतकों को हटाना शामिल है।

उम्मीद है आपको यह जानकारी सही लगी हो, यदि आप breast cancer symptoms in hindi के बारे कुछ और जानना चाहते हो तो कमेंट करके पूछे।

ये लेख पढ़े:- पेट में गैस बनना घरेलू उपाय

Leave a Reply