विशेषज्ञों का कहना है कि यह संभावना है कि कोरोनावायरस के नए वेरिएंट वर्षों तक टिके रहेंगे, लेकिन भविष्य में यह कैसा रहेगा इसका स्पष्टीकरण वैज्ञानिक आज नहीं दे सकते.

कोरोनवायरस, जो पहले से ही दुनिया भर में  24 लाख से भी ज्यादा लोगों की मौत का कारण बन चुका है,क्या इसे वैश्विक टीकाकरण अभियान द्वारा मिटा दिया जाएगा?  क्या खतरनाक नए वेरिएंट टीके से बचेंगे?  या वायरस एक लंबे समय के लिए चारों ओर चिपक जाएगा, एक आम झुंझलाहट में बदल रहा है, जैसे कि सामान्य सर्दी?आज दुनियभर मे वायरस तेजी से विकसित हो रहा है, और नए वेरिएंट विभिन्न देशों में पॉप अप हो रहे हैं.इन नए वेरिएंट का जोखिम तब बढ गया जब नोवावैक्स इंक ने पाया कि कंपनी का टीका ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका में प्रसारित नए वेरिएंट के खिलाफ काम नहीं करता, नया वेरिएंट जितना अधिक फैलेगा, विशेषज्ञों का कहना है, उतना मुश्किल होगा इस नये वेरिएंट को रोकना क्योंकी नये वेरिएंट खुदको टिके से बचने के लिए खूदको सक्षम कर सकता है.

अभी के लिए, वैज्ञानिको ने तत्काल प्राथमिकता से जितनी जल्दी हो सके उतने लोगों को टीकाकरण करने पर सहमती दिखाई है, और अगला कदम यह रहेगा की हम टिके की वजह से निर्माण होणे वाली प्रतिरक्षा शक्ती पर निर्भर रहें.
जेफरी शमां जो कोलंबिया युनिव्हर्सिटी मे वायरस पर शिक्षा देते है इनका केहना यह है की टीका हमारे लिए जिंदगी भर कोरोना वायरस से नहीं बचा पायेगा. इसिलिए हमे यह प्रश्न पडता है की क्या हमे बार बार एक नये टिके की आवश्यकता पडेगी?

सभी लोग Covid -19 के साथ रहना सीख सकते हैं लेकीन यह सिर्फ इस बात पर निर्भर नहीं करता है की लोगों की प्रतिरक्षा शक्ती कितनी देर तक रहती है, बल्कि इस बात पर भी निर्भर करता है कि वायरस कैसे विकसित होता है, क्या फ्लू की तरह वार्षिक टिके की आवश्यकता होगी या यह हर साल काफी बदलता रहेगा?  या यह हर कुछ वर्षों में आता जाता रहेगा?
इस वायरस का आगे क्या होगा ? 

Covid -19 कोरोनावायरस: क्या यह वायरस कभी नहीं जाएगा ?
Covid 19 Symptoms

इस सवाल का जवाब हमे जेनी लवाइन देती है जो की एमोरी युनिव्हर्सिटी मे वायरोलॉजिस्ट है. जेनी लवाइन ने हाल ही मे एक रिसर्च आर्टिकल लिखा है जीसमे आगे इस वायरस का क्या हो सकता है इसका अनुमान लगाने की कोशीष की है, यह बताती है की अधिकांश लोगों को वायरस का संक्रमण हो जायेगा जीसमे कुछ लोग टीका लिए होंगे और कुछ लोग इससे प्रतीरक्षा शक्ती से बच जाएंगे और यह वायरस ऐसें ही सालो साल चलता रहेगा जीससे केवल आम जुकाम और गले का इन्फेक्शन होता रहेगा.


Covid -19 पर वैज्ञानिको राय यह है की यह वायरस जीस तरह फैला है उस वजह से इसका नष्ट होना मुश्कील है, इसिलिए इसका संक्रमन सभी लोगो को होना है और या तो लोग इससे टिके के वजह से बचेंगे या सबको Covid -19 वायरस से प्रतिरक्षा शक्ती निर्माण हो जाएगी.1918 मे आया हुआ खतरनाक फ्लू भी बाद मे एक सामान्य फ्लू बनके रेह गया , कोरोना के साथ भी यही होगा ऐसी कुछ वैज्ञानिको की राय है वही कुछ वैज्ञानिक इसके विपरीत सुझाव देते है.

अभि फिलहाल 12 बिलिअन से भी जादा टिके अधिक पैसे वाले देशो ने बनाये है और पैसे की कमी की वजह से गरीब देश इसे खरीद नहीं पाएंगे और इन देशो मे यह वायरस बढता रहेगा जो की सभी देशो के लिए खतरा होगा.

भारतीय वैज्ञानिक डॉक्टर गगनदीप कँग केहते है की हमे इस विषय पर भी सोचना होगा एक बार टीका लेने के बाद यदी नये वेरिएंट का संक्रमन हो जाता है तो क्या पुराना टीका इस नये वेरिएंट पर प्रभावशाली रहेगा या हमे फिरसे नये टिके की खोज करनी पडेगी.

इसिलिए Covid – 19  का आज जाके क्या होगा यह हम आज बता नहीं सकते, हमे सिर्फ टिके और प्रतिरक्षा शक्ती पर निर्भर रेहना पडेगा.

कोरोना विषाणूबद्दल माहिती Corona Virus Information In Marathi

1 COMMENT

Leave a Reply