Skip to content
Home » हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी – Turmeric In Piles

हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी – Turmeric In Piles

हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी

हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी – हल्दी के एंटीसेप्टिक गुण बवासीर से प्रभावित क्षेत्र को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। एक चम्मच हल्दी पाउडर, एक चम्मच सरसों का तेल और दो से तीन बूंद प्याज के रस को मिलाकर एक चिकना पेस्ट बना लें।

हल्दी एक प्राकृतिक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है, अस्तित्व में यह सबसे प्रभावी पोषण पूरक हो सकता है। जिसका उपयोग बवासीर, कब्ज जैसी बिमारियों का इलाज किया जा सकता।

कई उच्च-गुणवत्ता वाले अध्ययनों से पता चलता है कि हल्दी आपके शरीर और मस्तिष्क के लिए प्रमुख लाभ है। इनमें से कई लाभ इसके मुख्य सक्रिय संघटक, करक्यूमिन से आते हैं। आज के इस लेख में हम हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी के बारे में जानेंगे।

हल्दी क्या है? Turmeric In Hindi

हल्दी एक ऐसी जड़ी बूटी है जीसका उपयोग भारत में हजारों वर्षों से एक मसाले और औषधीय जड़ी बूटी दोनों के रूप में किया जाता रहा है।

हाल ही में, विज्ञान ने पारंपरिक दावों का समर्थन करना शुरू कर दिया है कि हल्दी में औषधीय गुणों वाले यौगिक होते हैं जो बवासीर के उपाय में प्रभावी होते है।

हल्दी में करक्यूमिन नामक मुख्य सक्रिय तत्व होते है। इसका शक्तिशाली विरोधी भड़काऊ प्रभाव है और यह एक बहुत मजबूत एंटीऑक्सीडेंट है। इस वजह से हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी मुमकिन है।

हल्दी के गुणधर्म जो बवासीर के इलाज में लाभदायक होते है

हल्दी एक प्राकृतिक दर्दनाशक यौगिक है

बवासीर के मस्से में दर्द होना एक असहज और बेहद नुकसानदायक समस्या होती है। ऐसे में हल्दी के दर्दनाशक यौगिक बवासीर को रोकने में प्रभावी हो सकते। है।

हल्दी के जीवाणुरोधी गुणधर्म

हल्दी के जीवाणुरोधी गुण बवासीर के उपाय में एक प्रभावी उपाय हो सकते है। खुनी बवासीर में यह अधिक प्रभावी होगा जब संक्रमण का खतरा अधिक होता है।

पाचन को बढ़ावा देना

हल्दी का उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में पाचन उपचार एजेंट के रूप में किया जाता है।

अपचन और कब्ज कारण बवासीर होता है ऐसे में हल्दी से पाचन बढ़ाकर आप बवासीर पर रोक और पुनः आने पर निर्बंध लगा सकते है।

नीम और हल्दी की क्रीम

Buy on Amazon

नीम और हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी यह एक अत्यंत प्रभावी दवा है। इसे आप सीधे ऐमेज़ॉन से खरीद सकते है।

इन दोनों जड़ीबूटियों का संयोजन बवासीर पर एक रामबाण इलाज है। हल्दी के दर्द नाशक और घाव भरने वाले गुणधर्म निम के जीवाणुरोधी गुणधर्म बवासीर को जड़ से खत्म करने में उपयोगी होते है।

नीम और हल्दी को बवासीर में इस्तेमाल के लिये आप दिन में दो बार शौच के बाद लगाकर इस्तेमाल कर सकते है।

हर्बल हल्दी कर्क्यूमिन पाइपरिन सप्लीमेंट टैबलेट

Buy On Amazon

हल्दी यकीनन एक शक्तिशाली जड़ी बूटियों में से एक है; Curcumin विशेष रूप से, हल्दी पाउडर में प्राथमिक यौगिकों में से एक है, सबसे लाभप्रद जड़ी बूटियों में से एक होने की सूचना दी गई है, हल्दी से बवासीर के इलाज के लिए आपको इस कैप्सूल का दैनिक रूप से उपयोग करें।

यह बवासीर पर एक असरदार दवा है जो बवासीर को मस्से सुखाने और बवासीर के दर्द को कम करने में उपयोगी है।

VitaGreen PI-Clean क्रीम पाइल्स

Buy On Amazon

पाइ-क्लीन क्रीम 25gm बवासीर और संबंधित लक्षणों से राहत प्रदान करने के लिए आदर्श दवा है।

पाई-क्लीन क्रीम में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक गुण होते हैं जो दर्द और सूजन से राहत दिलाते हैं।

यह क्रीम बवासीर के कारण होने वाली दरारों को दूर करने में भी मदद करती है।

पाई क्लीन क्रीम की ख़ासियत:

  • बवासीर के दर्द से राहत दिलाता है
  • बवासीर की वजह से होने वाली दरारों को दूर करता है
  • शुद्धता और शक्ति के लिए परीक्षण किया गया

हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी घरेलू नुस्खे

हल्दी और एलोवेरा से बवासीर का इलाज

हल्दी और एलोवेरा से एक थोड़ा पेस्ट बनाकर क्रीम के रूप में आप इसे बवासीर के इलाज के लिए इस्तेमाल कर सकते है।

हल्दी और एलोवेरा में दर्द नाशक और घाव भरने के गुण होते है। इसे बनाने के लिए दो चमच एलोवेरा में आप एक चमच शुद्ध हल्दी डालकर मिला लें।

अधिक प्रभावशालिता के लिए आपको इस पेस्ट को कम से कम दो बार इस्तेमाल करना चाहिए।

हल्दी और दही से बवासीर का इलाज

हल्दी और दही की पेस्ट भी एक आयुर्वेदिक बवासीर का इलाज है। बवासीर कि समस्या होने पर थोड़ी सी दही में एक चम्मच हल्दी मिला कर गाढ़ी पेस्ट बना लें।

इसे अपने गुदा के हिस्से पर या अपनी बवासीर वाली जगह दिन में दो बार लगाएं. कुछ ही दिनों में आपका बवासीर से छुटकारा मिल जाएगा।

अरंडी के तेल और हल्दी से बवासीर का इलाज

अरंडी के तेल में एंटीफंगल, जीवाणुरोधी और विरोधी भड़काऊ जैसे शक्तिशाली उपचार गुण होते हैं।
इस प्राकृतिक तेल में बवासीर के आकार को कम करने और दर्द को कम करने की अद्भुत क्षमता है।
आप हर रात दूध में 3 मिली अरंडी का तेल और एक चम्मच हल्दी ले सकते हैं यह बवासीर के लक्षणों से राहत पाने के लिए इसे बवासीर से प्रभावित जगह पर लगा सकते हैं।

विच हेज़ल और हल्दी से बवासीर का इलाज

Buy On Amazon

विच हेज़ल, जिसे वंडर प्लांट कहा जाता है यह कई त्वचा रोगों और स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज के लिए एक समय-परीक्षणित प्राकृतिक उपचार है।

इसमें शक्तिशाली दर्दनाशक प्रभाव बवासीर से जुड़े दर्द और खुजली को कम करने के साथ-साथ सूजन को कम करने में फायदेमंद है।

विच हेज़ल लिक्विड को हल्दी के साथ राहत पाने के लिए सीधे बवासीर पर लगाया जा सकता है।

Frequently Asked Questions

हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी बताइए

हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी – हल्दी के एंटीसेप्टिक गुण बवासीर से प्रभावित क्षेत्र को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। एक चम्मच हल्दी पाउडर, एक चम्मच सरसों का तेल और दो से तीन बूंद प्याज के रस को मिलाकर एक चिकना पेस्ट बना लें।

हल्दी और एलोवेरा से बवासीर का इलाज कैसे करें?

हल्दी और एलोवेरा से एक थोड़ा पेस्ट बनाकर क्रीम के रूप में आप इसे बवासीर के इलाज के लिए इस्तेमाल कर सकते है।

हल्दी से प्रेगनेंसी रोकने के उपाय हो सकता है क्या?

प्रेगनेंसी एक नाजुक स्वास्थ स्थिति है इसीलिए इसे रोकने के लिए हमेशा डॉक्टर या फार्मासिस्ट द्वारा निर्धारित आवश्यक दवाइयों का इस्तेमाल करे।

हल्दी दूध के फायदे क्या है?

हल्दी दूध के फायदे में शामिल है इम्यूनिट बढ़ाएं, सर्दी में लाभदायक, खांसी से छुटकारा और पेट और अन्य दर्द से छुटकारा।

हल्दी से पिंपल हटाने के उपाय क्या है?

हल्दी से पिंपल हटाने के उपाय के लिये आप एलो वेरा में हल्दी मिलाकर सीधे पिंपल पर लगाए। एक हफ्ते में आपकी त्वचा पीपल से मुक्त हो जाएगी।

मुल्तानी मिट्टी और हल्दी के फायदे क्या है?

मुल्तानी मिट्टी और हल्दी से आपके त्वचा एक साफ़ सुंदर और पिंपल से मुक्त हो जाती है।

Leave a Reply